Friday, 17 July 2020

गुजरात की लेडी सिंघम सुनीता यादव


ये वर्दी तुम्हारे पिताजी की गुलामी के लिये नहीं पहनी है
ईमानदारी और फर्ज की ताकत के आगे सत्ता की चूलें भी हिल जाया करती हैं। गुजरात के सूरत में एक मामूली कांस्टेबल ने ‘कायदे-कानून के आगे हर कोई बराबर होता है’ कहकर न केवल मंत्री को खरी-खोटी सुनाई बल्कि कानून के उल्लंघन पर उनके पुत्र व उसके दोस्तों को गिरफ्तार भी करवाया। राजनीतिक दबाव में जब विभाग की तरफ से माफी मांगने को कहा गया और तबादला किया गया तो स्वाभिमान की रक्षा के लिये उसने नौकरी से इस्तीफा दे दिया।
पूरे मामले में जनता का समर्थन और सहानुभूति इस महिला कांस्टेबल सुनीता यादव को मिली। सोशल मीडिया में उसके पक्ष में मुहिम चली। मंत्री व उनके पुत्र और कांस्टेबल सुनीता के बीच बातचीत के ऑडियो-वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुए। खुद सुनीता ने भी सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म पर अपनी बात रखी। जन-दबाव के बाद गुजरात सरकार के स्वास्थ्य मंत्री किशोर कनाणी बचाव की मुद्रा में आ गये और बोले दोनों पक्षों को एक-दूसरे को समझना चाहिए।
दरअसल, सूरत के वारछा इलाके में रात को कर्फ्यू के दौरान सुनीता ने कुछ युवकों को बिना मास्क के घूमते पकड़ा। जिस पर युवकों ने मंत्री पुत्र प्रकाश कानाणी को बुला लिया। प्रकाश अपने पिता की विधायक की प्लेट लगी कार लेकर विवादित स्थल पर पहुंचा और युवकों को छोड़ने को कहा। उसकी बातचीत का वह ऑडियो वायरल हुआ, जिसमें वह कह रहा था कि हमारी इतनी ताकत है कि इसी जगह साल के 365 दिन तुम्हारी खड़े रहने की ड्यटी लगवा दूंगा।
मंत्री पुत्र की टिप्पणी से कांस्टेबल के स्वाभिमान को चोट लगी। उसने मंत्री पुत्र को सख्त लहजे में कहा कि ‘ये वर्दी तुम्हारे पिताजी की गुलामी के लिये नहीं पहनी है।’ अधिकारियों को सूचित किया। उसे कहा गया कि उसकी ड्यूटी इलाके की हीरा व टेक्सटाइल फैक्टरी न चलने देने की है, प्वाइंट पर किसी को रोकने की नहीं। आहत सुनीता ने मंत्री को भी फोन पर खरी खोटी सुनाई और पूछा कि जब आप गाड़ी में नहीं हैं तो आपका बेटा आपके नेम प्लेट वाली गाड़ी लेकर दबाव बनाने के लिए कैसे घूम रहा है। वह किस तरह कर्फ्यू के प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर रहा है। आप ईमानदारी से काम कर रही पुलिस को न सिखाओ, अपने बिगड़ैल बेटे को कायदे-कानून सिखाओ। यह प्रकरण पुलिस व राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना रहा।
इसके बाद राजनीतिक दबाव के चलते पुलिस अधिकारियों के सुर बदलने से आहत सुनीता ने पुलिस कमिश्नर सूरत आफिस में अपना इस्तीफा दे दिया। जब सुनीता का स्थानांतरण पुलिस लाइन किया गया तो उसने इस बात का मुखर विरोध किया कि जब उसने नौकरी से इस्तीफा दे दिया है तो उसका तबादला क्यों किया जा रहा है। मंत्री द्वारा पुत्र के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप लगाने के बाद पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है।
घटनाक्रम के बाद सुनीता ने भी अपनी बात रखी ‘मेरा इस्तीफा स्वीकार करने के बाद मुझे छुट्टी पर भेजा जा रहा है। मेरा तबादला किया जा रहा है। तबादला होने का मतलब मेरी तौहीन होना है और मंत्री के बेटे के मन की होना है, जो मुझे मंजूर नहीं है।’ सुनीता के पक्ष में जब देशभर में ट्वीट ट्रेंड करने लगे तो उसने लिखा ‘मैं सरकार की नौकरी करती हूं। वे और लोग होंगे जो नेताओं और मंत्रियों की गुलामी करते हैं। मैंने अपने स्वाभिमान से समझौता करके नौकरी करना नहीं सीखा। हमने भारत माता की शपथ वर्दी के लिये ली है। वे लोग जो नेताओं व भ्रष्ट सिस्टम की गुलामी करते हैं, उन्हें अपनी वर्दी व स्वाभिमान से ज्यादा पैसा प्यारा है। जिसके चलते नेता हर पुलिस वाले को एक नाप से तौलते हैं।’
पुलिस कांस्टेबल के दृढ़ निश्चय के बाद मंत्री के पुत्र व उसके दो दोस्तों की गिरफ्तारी भी हुई और जमानत भी तुरत-फुरत मिल गई। मंत्री की दलील थी कि उनका बेटा रात को अपने किसी कोरोना पीड़ित रिश्तेदार को देखने अस्पताल जा रहा था, महिला कांस्टेबल ने उसे जाने नहीं दिया और मुद्दे को प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया। साथ ही बेटे के साथ अभद्रता का आरोप भी लगाया।
कुल मिलाकर सुनीता ने मंत्री व उसके दंभ से भरे पुत्र को ही सबक नहीं सिखाया बल्कि पुलिस कर्मियों को भी सीख दी कि यदि वे स्वाभिमान के साथ कायदे-कानूनों के बीच नौकरी करना चाहें तो उन्हें अपनी ताकत का अहसास होना चाहिए। देश के लोगों को अहसास कराया कि ईमानदारी से काम करना पुलिस के लिये कितना मुश्किल है। आम लोगों के लिए भी संदेश है कि ईमानदार कर्मियों की ड्यूटी में बाधा डालने वाले नेताओं को सबक सिखाया जाये। यही वजह है कि पूरे देश में इस घटना को लेकर सुनीता के पक्ष में जनसमर्थन उभरा। सोशल मीडिया पर उसके साहस की चर्चा होने लगी। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल व डॉ. कुमार विश्वास जैसे लोगों ने गुजरात सरकार से सुनीता को न्याय दिलवाने की मांग की।

Thursday, 2 July 2020

भारतीय लोग जहां श्रीमद्भिगवद्गी ता के महत्व को अंगीकार करने में संकोच कर रहे हैं वहीं तुलसी गेबार्ड अमेरिका में इस ग्रंथ की महत्ता को बताने में जरा भी नहीं हिचक रही हैं। तुलसी गेबार्ड का कहना है कि श्रीमद्भिगवद्गी ता में ऐसी ऊर्जा समाहित है, जिससे व्यक्ति को निश्चितता, शक्ति और शांति मिल सकती है। यह हम भगवान श्रीकृष्ण के सिखाये कर्मयोग व भक्तियोग के मार्ग के जरिये हासिल कर सकते हैं।’ अमेरिकी कांग्रेस की हिन्दू सदस्य तुलसी गेबार्ड ने हाल ही में एक ऑनलाइन सम्बोधन में श्रीमद्भअगवद्गी ता के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। तुलसी गेबार्ड अमेरिकी कांग्रेस में एकमात्र हिन्दू सांसद हैं। वे तब सुर्खियों में आई थीं जब उन्होंने अमेरिकी कांग्रेस में अपने पद की शपथ गीता को हाथ में रखकर ली थी। वह न भारतीय मूल की हैं और न ही जन्म से हिन्दू हैं। मां से मिले संस्कारों के बाद उन्होंने हिन्दू धर्म अपनाया। उनके पिता कैथोलिक धर्म को मानने वाले हैं।
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि तुलसी इस साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए दावेदारी जता रही हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि यदि पार्टी उन्हें राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार नहीं बनाती तो वह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव नहीं लड़ेंगी। बहरहाल, अमेरिका में यहूदियों के बाद दूसरे नम्बर पर समृद्ध भारतीयों में वे खासी लोकप्रिय हैं। उन्हें हिंदू समाज की आवाज के रूप में देखा जाता है।
तुलसी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की मुखर विरोधी रही हैं। यहां तक कि जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी डोनाल्ड ट्रम्प के साथ आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में भाग लेने आये, तो वह उस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुईं। 
तुलसी प्रधानमंत्री मोदी की मुखर समर्थक रही हैं। बाद में सॉरी कहते हुए उन्होंने राष्ट्रपति पद की दावेदारी से जुड़े कार्यक्रम में  अपनी व्यस्तता का हवाला दिया। हवाई राज्य से लगातार रिकॉर्ड मतों से जीतने वाली तुलसी राजनीति में आने से पहले सेना में रही हैं और मेजर के पद पर कार्य किया है। वे बारह महीने के लिए इराक में भी तैनात रह चुकी हैं। वह वर्ष 2013 से लगातार अमेरिका की प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेटिक सांसद हैं।
तुलसी के भारतीय मूल के होने के कयास लगाये जाते रहे हैं, लेकिन वह अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं। वह नरेन्द्र मोदी की बड़ी समर्थक हैं। वर्ष 2014 में उन्होंने खुलेतौर पर कई मंचों से उनका समर्थन किया। उन्हें अपनी एक गीता भी भेंट की। उन्होंने वर्ष 2002 में नरेन्द्र मोदी को अमेरिका का वीजा न दिये जाने का विरोध किया था। साथ ही भारतीय देवयानी खोबरागढ़ की गिरफ्तारी का भी मुखर विरोध किया। यहां तक कि उड़ी हमलों के बाद अमेरिकी संसद में पाकिस्तान के साथ सम्बन्धों पर पुनर्विचार करने पर जोर दिया था।
हिन्दू मान्यताओं से गहरी जुड़ी तुलसी पूर्णत: शाकाहारी हैं। वह चैतन्य महाप्रभु के आध्यात्मिक आंदोलन गौड़ीय वैष्णव सम्प्रदाय का अनुकरण करती हैं। यहां तक कि उनके भाई-बहन भी हिन्दू हैं, जिनके नाम भक्ति, जय, नारायण और वृंदावन हैं। उनका मानना है कि श्रीमद्भकगवद्गी ता उनका आध्यात्मिक मार्गदर्शन करती है। वह कर्मयोग में गहरी आस्था रखती हैं। तुलसी भारत आने को लेकर उत्साहित हैं और खासकर वृंदावन जाना चाहती हैं। तुलसी ने वर्ष 2015 में अब्राहम विलियम से वैदिक रीति-रिवाज से विवाह किया था।
अमेरिका के समाओ द्वीप समूह के लेलोआ लोआ में एक सम्भ्रांत राजनीतिक परिवार में 12 अप्रैल, 1981 को जन्मी तुलसी गेबार्ड के पिता माइक गेबार्ड हवाई द्वीप समूह की राजनीति में अपनी खास पहचान रखते हैं। कालांतर में तुलसी की मां कैरोल पोर्टर ने हिन्दू धर्म अपना लिया। जब तुलसी एक साल की थीं तो उनका परिवार अमेरिका आकर बस गया। तुलसी की परवरिश मिले-जुले धार्मिक परिवेश में हुई क्योंकि जहां पिता कैथोलिक धर्म के अनुयायी थे  वहीं माता हिन्दू धर्म को मानने वाली। लेकिन उनके पिता ने हिन्दू पूजा-पद्धति का विरोध नहीं किया। 
तुलसी ने किशोर अवस्था में हिन्दू धर्म स्वीकार कर लिया। तुलसी ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपने घर पर ही की। वर्ष 2009 में उन्होंने हवाई पैसिफिक यूनिवर्सिटी से बिजनेस प्रबंधन में स्नातक की डिग्री हासिल की। बाद में 16 साल तक सेना में सेवायें दीं। वर्ष 2006 में अशांत इराक में तैनात रहीं।
तुलसी 6 नवम्बर, 2012 में अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के लिए डेमोक्रेट सांसद के रूप में चुनी गई। वे अपने इलाके में रिकॉर्ड मतों से जीतती रही हैं। तुलसी भारत के साथ मजबूत अमेरिकी सम्बन्धों की पक्षधर रही हैं। लेकिन आजकल राष्ट्रपति चुनाव में उनकी दावेदारी के खिलाफ अमेरिका में अभियान चलाया जा रहा है। उन्हें हिन्दू राष्ट्रवादी बताया जा रहा है। लेकिन वे बेबाक होकर इसका विरोध कर रही हैं। उन्होंने कहा कि गैर-हिन्दू नेताओं से कुछ न पूछना और अमेरिका के लिए उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाना दोहरे मापदंडों का परिचायक है। उन्होंने उनके समर्थकों व दानदाताओं के खिलाफ अभियान चलाने की आलोचना की। वह कहती हैं अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए पहली हिन्दू अमेरिकी दावेदार होने पर मुझे गर्व है।

Wednesday, 1 July 2020

खेल पत्रकारिता और भारत


आओ खेलों के विकास की खातिर खेल-पत्रकारिता को समृद्ध करें
खेल पत्रकारिता दिवस पर विशेष
श्रीप्रकाश शुक्ला
हर जीव जन्म से ही उछल-कूद शुरू कर देता है। हम कह सकते हैं कि खेलना हर जीव का शगल है। दुनिया पर नजर डालें तो हम पाते हैं कि आम इंसान जब काम पर नहीं होता तो उसके जेहन में खेलने की लालसा बलवती हो जाती है। खेल बिना जीवन के कोई मायने भी नहीं हैं। जीत-हार हमारे लिए किसी प्रेरणा-पुंज से कम नहीं होती। असफलता ही हमें सफलता की राह दिखाती है। दो जुलाई को हम विश्व खेल पत्रकारिता दिवस मनाते हैं। भारत में खेल पत्रकारिता को कलमबद्ध कर पाना किसी चुनौती से कम नहीं है। सच यह है कि आज भी अधिकांश दैनिक समाचार पत्रों के सम्पादक खेल पत्रकारिता को अछूत मानते हैं जबकि यह विधा सबसे कठिन है।
बचपन से ही खेलों में अभिरुचि, खिलाड़ियों की उपेक्षा और भारतीय खेल तंत्र की निष्फलता ने हमें खेलों पर लिखने को प्रोत्साहित किया। तीन दशक से अधिक के खेल पत्रकारिता जीवन में मैंने कई तरह के उतार-चढ़ाव देखे हैं। 1980 के दशक में खेल की खबरों का सुर्खियां बनना आश्चर्य की तरह था। उस दौर में अखबार के पन्नों पर क्रिकेट, फुटबाल, टेनिस, हाकी तथा अन्य खेलों का प्रकाशन तो होता था लेकिन सूचना मात्र। तब खेल की खबरें राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय स्तर पर होने वाले खेलों से सम्बन्धित होती थीं। वर्तमान समय में जिस तरह से खेल की खबरों में क्रिकेट का वर्चस्व है, वह तब नहीं दिखता था। हम कह सकते हैं कि हाकी के अधोपतन ने ही भारत में क्रिकेट को पैर पसारने का मौका दिया है। समय बदला है। अब खेल पत्रकारिता को सुर-ख्वाब के पर लग चुके हैं। यह बात अलग है कि हम क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों को उतना महत्व नहीं दे रहे जितना उन्हें मिलना चाहिए।
खेल केवल मनोरंजन का साधन ही नहीं बल्कि वह अच्छे स्वास्थ्य, शारीरिक दमखम और बौद्धिक क्षमता का भी प्रतीक है। यही कारण है कि पूरी दुनिया में प्राचीनकाल से खेलों का प्रचलन रहा है। मल्ल-युद्ध, तीरंदाजी, घुड़सवारी, तैराकी, गुल्ली-डंडा, पोलो, रस्साकशी, मलखम्भ, वॉल गेम्स, जैसे आउटडोर या मैदानी खेलों के अलावा चौपड़, चौसर या शतरंज जैसे इंडोर खेल प्राचीनकाल से ही लोकप्रिय रहे हैं। आधुनिक समय में इन पुराने खेलों के अलावा इनसे मिलते-जुलते खेलों तथा अन्य आधुनिक स्पर्धात्मक खेलों ने पूरी दुनिया में अपना वर्चस्व कायम कर रखा है। खेल आधुनिक हों या प्राचीन, खेलों में होने वाले अद्भुत कारनामों को जगजाहिर करने तथा उसका व्यापक प्रचार-प्रसार करने में खेल पत्रकारिता का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। आज पूरी दुनिया में खेल यदि लोकप्रियता के शिखर पर है तो उसका काफी कुछ श्रेय खेल पत्रकारिता को ही जाता है।
खेलों का मानव जीवन से काफी पुराना सम्बन्ध है। मनोरंजन तथा स्वास्थ्य की दृष्टि से भी मनुष्य ने खेलों के महत्व को समझा है। आज शायद ही कोई दिन ऐसा हो जब राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किसी न किसी प्रतियोगिता का आयोजन नहीं हो रहा हो। अतः खेलों के प्रति जनरुचि को देखते हुए पत्र-पत्रिकाओं में खेलों के समाचार तथा उनसे सम्बन्धित नियमित स्तम्भों का प्रकाशन किया जाता है। आज स्थिति यह है कि समाचार-पत्रों या पत्रिकाओं के अलावा किसी भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का स्वरूप तब तक परिपूर्ण नहीं माना जाता जब तक उसमें खेलों का भरपूर कवरेज नहीं हो। खेलों के प्रति मीडिया का यह रुझान जनरुचि के चलते ही सम्भव हो सका।
भारत युवाओं का देश है, जिसकी पहली पसंद विभिन्न खेल स्पर्धायें हैं, शायद यही कारण है कि पत्र-पत्रिकाओं में अगर सबसे आधिक कोई पन्ने पढ़े जाते हैं तो वे खेल से सम्बन्धित होते हैं। प्रिंट मीडिया के अलावा टेलीविजन चैनलों का भी एक बड़ा हिस्सा खेलों के प्रसारण से जुड़ा होता है। खेल चैनल तो चौबीसों घंटे कोई न कोई खेल लेकर हाजिर ही रहते हैं। लाइव कवरेज या सीधा प्रसारण की बात तो छोड़िये रिकॉर्डेड पुराने मैचों के प्रति भी दर्शकों का रुझान कहीं कम नहीं दिखाई देता। अतीत की बात करें तो भारत में कबड्डी, खो-खो, कुश्ती, हाकी से लेकर आधुनिक खेल खेले और देखे जाते थे। आजादी के बाद भारत में हाकी को राष्ट्रीय खेल का दर्जा दिया गया, वजह पर गौर करें तो ओलम्पिक में 1928 से 1956 के बीच हमारे खिलाड़ियों का अपराजेय पौरुष रहा है।
खेलों के क्षेत्र में गुलाम भारत में यदि किसी खेल की दुनिया भर में विजय पताका फहरी तो वह हाकी ही थी। भारत का ओलम्पिक हाकी में लगातार छह स्वर्ण पदक जीतना आज भी इतिहास है। 1980 मास्को ओलम्पिक में आखिरी बार भारतीय टीम स्वर्ण पदक जीती थी। बाद के दशकों में हाकी इस कदर पिछड़ती चली गई कि 2008 के बीजिंग ओलम्पिक में हमें खेलने तक की पात्रता नसीब नहीं हुई। हाकी  में ऐसा पहली बार हुआ था लेकिन अखबारों में इस खेल की दयनीय स्थिति पर कोई विशेष टीका-टिप्पणी नजर नहीं आई। 1983 में कपिल देव की जांबाज टोली का क्रिकेट में दुनिया फतह करना इस खेल को चार चांद लगा गया। उस विजय ने क्रिकेट को न केवल गांव-गली, नुक्कड़-चौराहे तक जगह दिला दी बल्कि समाचार-पत्रों के सम्पादकों को भी अपना नजरिया बदलने को विवश कर दिया।
आज भारत में क्रिकेट अखिल भारतीय दर्जा प्राप्त है। आज जो भाव विराट कोहली को लेकर है वही भाव कुछ साल पहले तक सचिन तेंदुलकर को लेकर रहा है। क्रिकेट मैदानों में क्रिकेट इज आवर रिलीजन, सचिन इज आवर गाड के पोस्टर भारत में क्रिकेट खिलाड़ियों को मिलने वाली शोहरत और प्रतिष्ठा की ही तरफ इशारा करते हैं। हिन्दुस्तान में क्रिकेट की दीवानगी और सैटेलाइट टेलीविजनों के अभ्युदय ने इस खेल पर लिखने वालों की एक बड़ी पलटन तैयार कर दी है। जिन सम्पादकों की खेलों से अरुचि रही है, उन्होंने भी इस खेल पर लिखने की ठान ली। सम्पादकों की इसी रुचि ने एक तरह से खेल-पत्रकारिता को नई ऊर्जा प्रदान की है। आजादी के लगभग तीन दशक तक सम्पादकों ने खेल-पत्रकारिता को गरीब की लुगाई की ही तरह देखा। ऐसा नहीं कि तब अखबारों में खेल की खबरें नहीं होती थीं, लेकिन जिस तरह से हमारे समाज में खेलों को लेकर एक तरह की उदासीनता का भाव दिखाई पड़ता है उसी रूप में अखबारों ने भी खेलों की खबरों के साथ सलूक किया।
हिन्दीभाषी क्षेत्रों में पढ़ोगे-लिखोगे बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे होगे खराब यह जुमला आज भी सुनाई देता है। भारत में खेल-पत्रकारिता के अभ्युदय से पहले अज्ञेय के मन में दिनमान की कल्पना का भूत सवार हुआ और उन्होंने अपने ऊपर शोध करने वाले एक छात्र योगराज थानी को खेल डेस्क का प्रमुख बनाकर हिन्दी खेल-पत्रकारिता के भविष्य पर ही प्रश्नचिह्न लगा दिया। हिन्दी पत्रकारिता पर साहित्यकारों के हावी होने के कुछ दुष्परिणामों में से एक यह भी था। ऐसे साहित्यकार-सम्पादकों ने खेल पत्रकारिता को एक स्वतंत्र विधा के रूप में विकसित नहीं होने दिया। इसके विपरीत मैं स्वर्गवासी प्रभाष जोशी को हिन्दी खेल पत्रकारिता का पितृ पुरुष मानता हूं। 1984 में जब जनसत्ता का प्रकाशन प्रारम्भ हुआ तब बतौर सम्पादक प्रभाष जोशी जी ने खेलों के लिए अखबार में पर्याप्त जगह निकाली। इतना ही नहीं श्री जोशी जी ने सक्षम खेल पत्रकारों को चुनकर जनसत्ता की मजबूत खेल डेस्क बनाई और उन्हें वाहन भत्ता देकर हिन्दी में स्वतंत्र खेल रिपोर्टिंग की नींव डाली। उन्होंने दैनंदिन खेल पृष्ठ के साथ-साथ सप्ताह में एक पन्ने का खेल परिशिष्ट भी शुरू किया।
श्री जोशी जी स्वयं भी खेलों पर लिखते थे। लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान देश का पहला ऐसा संस्थान है जिसने खेल-पत्रकारिता में शिक्षण की नींव डाली लेकिन संस्थान का यह प्रयास लम्बे समय तक नहीं चल सका। लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान ने खेल-पत्रकारिता की तालीम हासिल करने वाले छात्र-छात्राओं को देश के वरिष्ठ खेल लेखकों के अनुभवों का लाभ दिलाने के प्रयास भी किए। यह अवसर प्रभाष जोशी के साथ ही मुझे भी नसीब हुआ। कुछ घण्टे की इस मुलाकात में मुझे भी अग्रज प्रभाष जोशी से बहुत कुछ सीखने को मिला। प्रभाष जोशी के खेल लेखन में भारतीयता कूट-कूट कर भरी थी।
मध्य प्रदेश की जहां तक बात है, मैं नई दुनिया समाचार-पत्र प्रबंधन का शुक्रगुजार हूं कि उसने खेलों और खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए न केवल समय-समय पर खेलों के बहुरंगी परिशिष्टों का प्रकाशन किया बल्कि पाक्षिक खेल-पत्रिका खेल-हलचल का प्रकाशन कर खेल पत्रकारिता की दिशा में एक नजीर पेश की। हालांकि इक्कीसवीं सदी के पहले ही दशक में इसका प्रकाशन बंद कर दिया गया लेकिन फिर भी विशेष खेल अवसरों पर नई दुनिया समाचार पत्र में विशेषांक निकलते रहे। खेल हलचल की हलचल समाप्त होने से पूर्व ही इंद्रजीत मौर्य जी ने खेलों की सम्पूर्ण पत्रिका नेशनल स्पोर्ट्स टाइम्स का प्रकाशन भोपाल से शुरू कर निराश खेल-खिलाड़ियों में आशा की किरण जगाई। सच कहें तो नेशनल स्पोर्ट्स टाइम्स पत्रिका इस समय देश की पहली ऐसी खेल पत्रिका है जिसमें सभी खेलों को पर्याप्त स्थान दिया जा रहा है। इस पत्रिका ने खेलों पर लिखने वालों को ऐसा प्लेटफार्म दिया है, जोकि अन्य पत्रिकाओं में सम्भव नहीं है। मौर्य जी दो दशक से पत्रिका के प्रकाशन का जो चुनौतीपूर्ण दायित्व निर्वहन कर रहे हैं, उसकी जितनी प्रशंसा की जाए वह कम है। दरअसल देश और प्रदेश में खेलों का पाठक वर्ग तो है लेकिन वह पैसा खर्च नहीं करना चाहता।
मध्य प्रदेश में इंदौर को खेल पत्रकारिता का गढ़ माना जाता है तो ग्वालियर में भी खेलों के प्रति लगाव कम नहीं है। ग्वालियर में खेल पत्रकारिता का प्रतिस्पर्धात्मक दौर न होने के वाबजूद मैंने 2009 में साप्ताहिक खेलपथ समाचार पत्र के प्रकाशन का निर्णय लिया। यह निर्णय मेरे लिए चुनौतीपूर्ण साबित हुआ। लाख किन्तु-परन्तु के बाद भी मैं हर रोज खेलों और खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए कुछ कर पा रहा हूं, यह मेरे लिए संतोष की बात है। देश की अन्य पत्र-पत्रिकाओं की बात की जाए तो आजकल खेल-खिलाड़ी, खेल युग, स्पोर्ट्स वीक, क्रिकेट सम्राट, क्रिकेट भारती जैसी अनेक पत्रिकाएं प्रकाशित हो रही हैं जो विश्व भर की खेल हलचलों को अपने पत्र में स्थान देने का प्रयास कर रही हैं। खेलों की पत्र-पत्रिकाओं से इतर हर पत्रिका में खेलों का एकाध आलेख प्रकाशित होना खेल-पत्रकारिता के लिए सम्बल का ही काम कर रहा है। खुशी की बात है कि आज लगभग सभी अखबारों में एक अलग खेल डेस्क है तथा खेल पत्रकारों को अन्य पत्रकारों से कुछ अलग सुविधाएं मिलने लगी हैं।
पाठकों और दर्शकों की खेलों के प्रति दीवानगी का ही नतीजा है कि आज खेल की दुनिया में अकूत धन बरस रहा है। एक समय ऐसा भी था जब खेलों में धन-दौलत का कोई नामोनिशान नहीं था। प्राचीन ओलम्पिक खेलों जैसी प्रसिद्ध खेल स्पर्धाओं में भी विजेता को जैतून की पत्तियों के मुकुट बतौर पुरस्कार दिये जाते थे। खेलों में धन-वर्षा का प्रारम्भ कार्पोरेट जगत के प्रवेश से हुआ। कार्पोरेट जगत के प्रोत्साहन से कई खेल और खिलाड़ी प्रोफेशनल होने लगे और खेल-स्पर्धाओं से लाखों-करोड़ों कमाने लगे। आज टेनिस, फुटबॉल, बास्केटबॉल, बॉक्सिंग, स्क्वैश, गोल्फ जैसे खेलों में भी पैसे की बरसात हो रही है। खेलों की लोकप्रियता और खिलाड़ियों की कमाई की बात करें तो आज क्रिकेट ने, जो दुनिया के गिने-चुने देशों में ही खेला जाता है, लोकप्रियता की नई ऊंचाइयां हासिल की हैं।
क्रिकेट में कारपोरेट जगत के रुझान के कारण नवोदित क्रिकेटर भी अन्य खिलाड़ियों की तुलना में अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। खेलों में धनवर्षा में कोई बुराई नहीं है। इससे खेलों और खिलाड़ियों के स्तर में सुधार ही होता है, लेकिन उसका बदसूरत पहलू यह भी है कि खेलों में गलाकाट स्पर्धा के कारण इसमें फिक्सिंग और डोपिंग जैसी बुराइयों का प्रचलन भी बढ़ने लगा है। फिक्सिंग और डोपिंग जैसी बुराईयां न खिलाड़ियों के हित में हैं और न खेलों के। खेल-पत्रकारों की यह जिम्मेदारी है कि वह खेलों में पनप रहे ऐसे कुलक्षणों पर भी कलम चलाएं ताकि हर हाल में खेलभावना की रक्षा हो सके।
खेल पत्रकारों से यह उम्मीद भी की जाती है कि वे आम लोगों से जुड़े खेलों को भी उतना ही महत्व और प्रोत्साहन दें जितना अन्य लोकप्रिय खेलों को मिल रहा है। खेल पत्रकारिता किसी भी समाचार मीडिया संगठन का आज एक अनिवार्य अंग है। खिलाड़ियों के लिए खेल में करियर आज अपने उफान पर है तो खेल पत्रकारों के लिए भी यह सुखद अवसर से कम नहीं है। आज टेलीविजन, रेडियो, पत्रिकाएं, इंटरनेट लोगों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गए हैं। हर कोई चाहता है कि उसे खेलों की नवीनतम जानकारी हासिल हो। पाठकों को खेल पत्रकारिता के इस अवसर का लाभ तब तक नहीं मिल सकता जब तक कि हर भाषा में खेल पत्रिकाएं नहीं प्रकाशित होतीं।
खेल पत्रकारिता कड़ी मेहनत और जुनून का कार्य है। हम अपने दफ्तर में बैठकर ही खेल-खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के साथ न्याय नहीं कर सकते। जरूरत है हम हर खेल के तकनीकी पहलू को समझेंखेल पत्रकारिता का अभी शैशवकाल है, इसे हम ईमानदारी से ही समृद्ध कर सकते हैं। कालांतर में बेशक खेल-पत्रकारिता को कमतर आंका जाता रहा हो, आज यह सबसे दुरूह कार्य है। पत्रकारिता के क्षेत्र में खेल पत्रकारिता सबसे कठिन है। इस महती कार्य को हर कोई नहीं कर सकता। यह एक तरह से तपस्या है, जो जितना तपेगा उतना ही निखरेगा। आओ खेलों के विकास की खातिर खेल-पत्रकारिता को समृद्ध करें।

Thursday, 26 September 2019

अमरावती की अमर कहानी बबिता ताड़े

पंद्रह सौ रुपये की मासिक पगार पर साढ़े चार सौ बच्चों के लिए दो टाइम खाना बनाने वाली महिला यदि इतना ज्ञान रखती है कि बेहद जटिल प्रक्रिया के बाद केबीसी की हॉट सीट तक पहुंच जाती है, तो उसको नमन करना बनता है।  यदि वह एक करोड़ रुपये तक के सवाल सही-सही बता देती है तो उसकी अध्ययनशीलता व सामान्य ज्ञान की जानकारी रखने की ललक को भी सराहा जाना चाहिए। सराहना इसलिए भी कि जिस देश में जहां एक नामचीन फिल्मी सितारे व पूर्व सांसद की सिनेस्टार बेटी केबीसी में यह पूछे जाने पर कि हनुमान जी किसके लिए संजीवनी बूटी लाये थे, जवाब नहीं दे पायी। अमरावती की बबिता ताड़े का केबीसी में एक करोड़ रुपये जीतना महज इस दृष्टि से महत्वपूर्ण नहीं है कि एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की पत्नी ने यह राशि जीती, बल्कि महत्वपूर्ण उसकी जीवन में कुछ कर गुजरने की ललक है। अपने आसपास के घटनाक्रम के प्रति सजग रहने की उत्कंठा है। नहीं तो देश के महानगरों में विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले कई छात्र-छात्राएं देश के प्रधानमंत्री-राष्ट्रपति का नाम नहीं बता पाते, गणतंत्र दिवस व स्वतंत्रता दिवस तक का भी फर्क नहीं बता पाते।
ऐसे समाज में, जहां भरे पेट के सम्पन्न लोगों की पैसे की हवस खत्म नहीं होती, वहां बबिता कहती हैं कि इस पैसे से वह कुछ गांव के मंदिर के पुनर्निर्माण में खर्च करेंगी। वह कुछ पैसे से उस स्कूल में वाटर कूलर लगाएंगी, जहां वह रोज बच्चों के लिये खाना बनाती हैं। उनकी सोच कितनी बड़ी है। वह कहती हैं कि अपने पति की दिक्कतें दूर करने के लिए इस पैसे से उनके लिये मोटरसाइकिल खरीदेंगी। उनका संघर्ष मेरे से ज्यादा बड़ा है। यह बबिता की बड़ी सोच है।
आज के दौर में जब जेब में चार पैसे आते ही लोग उड़ने लगते हैं, इंसान को इंसान नहीं समझते, उस दौर में बबिता कहती हैं कि मैं पंद्रह सौ रुपये की पगार के लिये साढ़े चार सौ बच्चों का खाना बनाना जारी रखूंगी। उसे इससे सुकून मिलता है। पहले स्कूल में गिने-चुने बच्चे आते थे। अब साढ़े चार सौ हैं। उनमें बहुत से बच्चे ऐसे हैं जो सिर्फ अच्छे खाने के लिये ही स्कूल आते हैं। जाहिर है वे गरीबी से जूझ रहे हैं। उन्हें खाना खिलाकर मुझे सुकून मिलता है। मैं करोड़ रुपये कमाने के बाद भी यह काम जारी रखूंगी। इस सोच को सलाम करने का मन करता है। नि:संदेह देर से ही सही, भगवान भी सकारात्मक बड़ी सोच रखने वालों के जीवन में बदलाव लाता है।
इस महिला का संघर्ष देखिये कि वह आठ घंटे स्कूल के बच्चों के लिये दो टाइम खाना बनाने में लगाती हैं। बबिता ने शादी से पहले अधूरी छूटी पढ़ाई को भी पूरा किया। पति को वह इस बात के लिये श्रेय देती हैं कि चपरासी की नौकरी करने वाले पति की सोच बड़ी थी, उन्होंने मुझे आगे पढ़ने से कभी रोका नहीं, बल्कि प्रोत्साहित किया। आज उसके बेटा-बेटी भी अच्छी पढ़ाई कर रहे हैं। मुझे बचपन में पढ़ने का मौका नहीं मिला मगर मैं चाहती हूं कि मेरे बच्चे अच्छा पढ़ें। मैं कुछ पैसे उनकी पढ़ाई पर खर्च करूंगी।
बबिता ने पिछले साल भी केबीसी में भाग लेने की कोशिश की, मगर उसके पास मोबाइल फोन नहीं था। उन्होंने पिछले साल एक फोन खरीदा था जो पति व बच्चों के पास रहता था। केबीसी के सेट पर जब अमिताभ बच्चन ने दस हजार रुपये जीतने पर पूछा, वह इन पैसों से क्या करेंगी तो उसका जवाब था कि सबसे पहले एक मोबाइल खरीदूंगी। अमिताभ बच्चन के लिये यह जवाब चौंकाने वाला था। यह भी कि किसी का जीवन संघर्ष इतना कठिन हो सकता है कि हाड़-तोड़ मेहनत के बावजूद वह अपने लिये एक मोबाइल नहीं खरीद सकता। अमिताभ बच्चन ने तुरंत एक मोबाइल की व्यवस्था करने को कहा और छत्तीस हजार का स्मार्ट फोन बबिता ताड़े को दिया।
बबिता से पूछा गया कि केबीसी में पहुंचने का विचार कैसे आया। वह कहती हैं कि मेरे पिता एक सरकारी गेस्ट हाउस में खानसामा थे, मैं उनका हाथ बंटाने को जाती थी। वहां बड़े-बड़े अधिकारी व नेता ठहरते थे। उनका रहन-सहन व व्यवहार मुझे प्रभावित करता था और उनके जैसे जीवन को प्रेरित करता था। मगर बचपन में ही शादी हो गई, अपनी हैसियत में हुई। पढ़ाई भी अधूरी छूट गई। फिर बच्चों व गृहस्थी में हाथ बंटाने और बाद में स्कूल में खाना बनाने में जुटी रही। मगर मन के किसी कोने में वह ललक थी कि एक दिन कुछ ऐसा किया जाए जो जीवन की काया पलट दे। ईश्वर ने मेरी सुन ली है। मेरे घर में त्योहार जैसा माहौल है। पति व दोनों बच्चे बहुत खुश हैं। यह हमारे जीवन बदलने वाला मोड़ है।
सही मायने में हॉट सीट में बैठकर बबिता ताड़े ने केवल एक करोड़ रुपये ही नहीं जीते, लाखों लोगों के दिल भी जीते। एक आम गृहणी-सी, सदा मुस्कराती हुई। जब उनसे पूछा गया कि सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के सामने बैठने पर नर्वसनेस तो नहीं थी। वह बोलीं—नहीं, अमिताभ जी की सबसे बड़ी बात यह है कि वे किसी भी वर्ग के व्यक्ति के साथ उसके स्तर तक जाकर बात करते हैं। उसे कभी हीनता का एहसास नहीं होने देते। इसीलिये तो लोग उन्हें महानायक कहते हैं। मैं आज खुश हूं कि मेरा एक सपना पूरा हुआ। सच कहें तो बबिता अब अमरावती की अमर कहानी बन गई हैं। बबिता को देश का सलाम।

Friday, 2 August 2019

डॉ. शालिनी गांधी ब्यूटी कॉन्टेस्ट के टाप पांच में


मिला मोस्ट ब्यूटीफुल आईज और फिटनेस अवॉर्ड
मथुरा। डॉक्टर को समाज में सेवाभावना का सूचक माना जाता है। लोगों की धारणा है कि एक चिकित्सक अपने पेशे के अलावा कुछ कर ही नहीं कर सकता लेकिन के.डी. मेडिकल कालेज-हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर की डॉक्टर शालिनी गांधी ने अपने जुनून, जज्बे और कड़ी मेहनत से ओपेरा मिस एण्ड मिसेज इंडिया ग्लोबल-2019 के ब्यूटी कॉन्टेस्ट में टाप फाइव प्रतिभागियों में स्थान बनाकर एक नई इबारत लिख दी। डॉ. शालिनी गांधी ने ब्यूटी कॉन्टेस्ट में मोस्ट ब्यूटीफुल आईज और फिटनेस अवॉर्ड जीतकर अपने उज्ज्वल भविष्य की छाप जरूर छोड़ दी है।
नई दिल्ली के होटल आई.टी.सी. वेल्कम में हुई ओपेरा मिस एण्ड मिसेज इंडिया ग्लोबल-2019 के ब्यूटी कान्टेस्ट पर डॉ. शालिनी गांधी का कहना है कि स्टाइलिश कोई भी बन सकता है परन्तु उसके लिए एक जुनून, जज्बा व कड़ी मेहनत बहुत जरूरी है। ब्यूटी कॉन्टेस्ट में उन्हें कौन सा राउंड ज्यादा मुश्किल लगा, इस पर डॉ. शालिनी ने कहा कि राउंड तो सारे ही मुश्किल थे परन्तु मैंने हर राउण्ड में बेहतर प्रदर्शन करने के साथ ही पूछे गए हर प्रश्न का जवाब सोच-समझकर दिया।
डॉ. शालिनी गांधी का कहना है कि ब्यूटी कॉन्टेस्ट से पहले हुआ प्रशिक्षण सत्र बहुत ही थकाऊ रहा, चूंकि मेरे लिए यह पहला अवसर था, इसलिए थोड़ी घबराहट जरूर थी। डॉ. शालिनी गांधी का कहना है कि देश भर की 50 प्रतिभागियों में मैं अकेली डॉक्टर थी। डॉक्टर होने की वजह से दर्शकों ने मेरे हर राउण्ड को न केवल सराहा बल्कि मुझसे पूछे गये सवालों के जवाब सुनकर तालियां बजाने से भी अपने आपको नहीं रोक पाए।
डॉ. शालिनी गांधी ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय के.डी. मेडिकल कालेज-हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के प्रबंधन को दिया। उन्होंने कहा कि प्रबंधन के प्रोत्साहन की वजह से ही मैं लीक से हटकर कुछ करने का साहस जुटा सकी। आर.के. एज्यूकेशन हब के चेयरमैन डॉ. रामकिशोर अग्रवाल, प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल, प्राचार्य डॉ. मंजू नवानी ने डॉ. शालिनी गांधी की इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बधाई दी।

Friday, 26 July 2019

पचास फीसदी प्रशिक्षक वैज्ञानिक शोध का लाभ खिलाड़ियों को नहीं दे पातेः पीयूष जैन


खेल आयोजन, खेल प्रबंधन और योग पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन
त्रिवेंदरम। त्रिवेंदरम (केरल) में स्पोर्ट्स अथॉरिटी के अंतर्गत संचालित लक्ष्मी बाई शारीरिक शिक्षा विज्ञान संस्थान, फिजिकल एजूकेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया (पेफी) एवं केरल विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय खेल आयोजन, खेल प्रबंधन और योग पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन ने कहा कि पचास फीसदी प्रशिक्षक ज्ञान की कमी के चलते वैज्ञानिक शोध का लाभ खिलाड़ियों को नहीं दे पाते।
सम्मेलन का उद्घाटन डॉ. ए. जय तिलक, केरल सरकार के प्रमुख सचिव, खेल और युवा मामलों और योजना विभाग ने किया। कार्यक्रम में अपने शोध को प्रस्तुत करते हुए फिजिकल एजूकेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया (पेफी) के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन ने खेल प्रबंधन में फिजिकल एजूकेशन शिक्षक की भूमिका पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि पांच हजार साल पुरानी हमारी शिक्षा की समृद्ध परम्परा रही है। सदियों से शारीरिक शिक्षा ही मूल शिक्षा है। आज सूचना क्रांति के युग में नित नए प्रयोग शारीरिक शिक्षा एवं खेलों में हो रहे हैं।
डॉ. पीयूष जैन कहा कि विश्वविद्यालय में कुछ ऐसे शिक्षा कार्यक्रम विकसित किए जा रहे हैं, जिससे शिक्षक स्वयं अपना शैक्षिक ज्ञान बढ़ा पा रहे हैं लेकिन अभी और प्रयास किये जाने की जरूरत है। डॉ. पीयूष जैन ने कहा कि आज संसाधनों की कोई कमी नहीं है, बस इसमें दिलचस्पी लेने तथा सही क्रियान्वयन की आवश्यकता है। सही मायने में इस शिक्षा का उद्देश्य छात्रों को स्वस्थ शरीर, मन और आचरण का प्रशिक्षण देना है।
डॉ. जैन ने कहा कि स्वस्थ शरीर में एक स्वस्थ मन रखने के लिए छात्रों को नियमित शारीरिक व्यायाम की आवश्यकता होती है। उन्होंने खेलों के प्रबंधन पर चर्चा करते हुए कहा कि चरित्र निर्माण में खेलों का आयोजन, प्रबंधन जरूरी है। यह युवा पीढ़ी के स्वास्थ्य के लिए भी बहुत जरूरी है। इस सेमिनार में अपने शोध विषय पर पेफी के अध्यक्ष डॉ. अरुण कुमार उप्पल ने भी विचार रखे। इस अवसर पर केरल सरकार के साथ-साथ पूरे देश के शारीरिक शिक्षा और खेलकूद से जुड़े अन्य प्रबुद्ध लोगों ने भी अपने-अपने शोध प्रस्तुत किये। इस अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम में 150 से अधिक पेशेवर खेल और व्यायाम विज्ञान, योग और प्रबंधन के विशेषज्ञों ने भाग लिया।

कृष्णा पूनिया ने विधान सभा में जगाई खिलाड़ियों की अलख



खेल मंत्री और शिक्षा मंत्री ने की सराहना
जयपुर। खिलाड़ी से राजनीति में प्रवेश करने वाली पद्मश्री डा. कृष्णा पूनिया ने विधान सभा में राजस्थान के खिलाड़ियों का जोरदार पक्ष रखते हुए अपनी कार्यशैली की जोरदार बानगी पेश की है। इससे पहले भी सादुलपुर विधायक कृष्णा पूनिया अपनी सरकार से राजगढ़ में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम की मांग को मनवा कर खिलाड़ियों के मायूस चेहरों पर मुस्कान लौटा चुकी हैं। विधायक कृष्णा ने न केवल स्कूल स्तर के खिलाड़ियों का पक्ष रखा बल्कि द्रोणाचार्य अवार्डियों के जीवन-बसर पर भी राजस्थान सरकार का ध्यान आकृष्ट किया है। कृष्णा के इन प्रयासों का असर देश के अन्य राज्यों पर भी पड़ेगा इसमें संदेह नहीं है।
विधायक कृष्णा पूनिया ने शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह से प्रश्न किया कि राजस्थान में स्कूल स्टेट, स्कूल नेशनल और इंटर यूनिवर्सिटी आदि खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को प्राइज मनी नहीं दी जाती, इससे खिलाड़ियों में मायूसी है। विधायक पूनिया ने कहा कि  जिस तरह से ओपन स्टेट और नेशनल चैम्पियनशिप में खेलने वाले खिलाड़ियों को नगद राशि मिलती है, उसी तरह से शिक्षा विभाग के छात्र-छात्रा खिलाड़ियों को भी प्राइज मिलनी चाहिए। कृष्णा पूनिया ने सवाल किया कि शिक्षा विभाग में भर्ती के दौरान ओपन के पदक विजेता खिलाड़ियों को बोनस अंक क्यों नहीं दिए जाते? इस पर शिक्षामंत्री ने कहा, विभागों से बात कर प्रस्ताव बनाकर कार्रवाई करेंगे। कृष्णा ने कहा कि शिक्षा विभाग ही नहीं सभी विभागों में खिलाड़ियों को नौकरियों में प्राथमिकता मिलनी चाहिए। राजस्थान को खेलों में अग्रणी राज्य बनाने के लिए जरूरी है कि खिलाड़ियों को न केवल आर्थिक मदद मिले बल्कि उन्हें नौकरी में भी प्राथमिकता दी जाए।
प्रश्नकाल के दौरान कृष्णा पूनिया ने खेल मंत्री अशोक चांदना से कहा कि राज्य सरकार अर्जुन पुरस्कार विजेता, ओलम्पिक, एशियन और कॉमनवेल्थ गेम्स के पदक विजेताओं को जिस प्रकार से 25 बीघा जमीन, जेडीए का प्लॉट आदि सुविधाएं देती है उसी प्रकार की सुविधाएं द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेताओं को भी मिलनी चाहिए। पूनिया के इस प्रश्न पर खेलमंत्री ने कहा कि इसके लिए सभी सम्बन्धित विभागों से चर्चा करने के बाद प्रस्ताव तैयार कर मुख्यमंत्री को भेजा जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी ने खेल मंत्री अशोक चांदना और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को खिलाड़ियों के हित में निर्णय लेने के लिए कहा। गौरतलब है कि विधायक कृष्णा पूनिया के पति वीरेन्द्र पूनिया स्वयं भी द्रोणाचार्य अवार्डी एथलेटिक कोच हैं। जो भी हो कृष्णा पूनिया ने खिलाड़ी हित में जो आवाज उठाई है उससे राजस्थान ही नहीं अन्य राज्यों के खिलाड़ियों और द्रोणाचार्य अवार्डियों को भी लाभ मिलेगा।